INDIAN HISTORY AND TRAVELING INFORMATION

www.indianhistoryandtraveling.com

खांसी और अनिद्रा से बचने के उपाय 


INSOMANIA   (अनिद्रा )


आज हम इन्सोमेनिया याने की अनिद्रा के बारे में जानने वाले है। अनिद्रा से होने वाले दुष्परिणाम आज जानेगे।
अनिद्रा यानि इन्सोमेनिया  के आप अगर यदि लम्बे समय तक शिकार रहते है तो यह बीमारी आपकी उम्र काम कर सकती है। बहुत से ऐसे लोग है जो अपनी निद्रा पूरी नहीं करते और नींद आने के बावजूद काम पर लगे रहते है। स्वस्थ रहने के लिए लोगो को कम से काम छह घंटे की नींद पूरी करनी चाहिए। लम्बे समय तक नींद को टालने पर आप अनिद्रा के शिकार हो सकते हो।


अध्यनो में पाया गया है की लगातार कई वक़्त तक अनिद्रा आपके खून के सूजन का स्टार बढ़ा देती है। जिसके दिल सम्बन्धी बीमारिया ,डायबिटीज ,कैंसर ,डिमेंशिया ,मोटापा और अवसाद जैसी बीमारिया हो सकती है।


सोते वक़्त अपने आस पास के वातावरण को शांत रखना चाहिए। अपने आस पास होने वाले शोर को बंद कर आराम से सोने की कोशिश करनी चाहिए। आपका सोने का बिस्तर कम्फर्टेबल होना चाहिए। जिससे आप आराम सो पाए। क्योंकि अगर बिस्तर हार्ड होता है तो उस पर आप चैन से नहीं सो पाते है।


सोते वक़्त कमरे की लाइट बुझा देनी चाहिए क्योंकि लाइट जाली होने पर आँखे बार बार खुलने लगाती है और आप सो नहीं पाते। इसलिए अँधेरे कमरे में सोने की कोशिश करनी चाहिए।

Today we are going to know about Insomnia. The ill effects of insomnia will be known today. If you are a victim of insomnia, ie insomnia, then this disease can work for your age. There are many people who do not complete their sleep and continue to work despite falling asleep. To stay healthy, people should complete at least six hours of sleep. You can become a victim of insomnia by avoiding sleep for a long time. Studies have found that insomnia increases the star of bloating in your blood for several consecutive periods. Which can cause diseases related to heart diseases, diabetes, cancer, dementia, obesity and depression.


While sleeping, the environment around you should be kept calm. You should try to sleep comfortably by closing the noise around you. Your sleeping bed should be comfortable. So that you can rest easy. Because if the bed is hard, then you are not able to sleep peacefully on it. The light of the room should be extinguished at bedtime because the eyes start to open repeatedly when the light is forged and you cannot sleep. Therefore, try to sleep in a dark room.

Cough (खांसी)



गले में खराश और कफ की वजह से चल रही खांसी आपको कितना परेशां कर सकती है इसका अनुभव सभीको होता है। अगर आप खांसी से जल्द आराम पाना चाहे है तो अजवायन का सहारा लेना चाहिए। अजवायन से सिर्फ खांसी दूर नहीं होगी बालकी आपके गले की बलगम को भी बहार निकलकर आपकी श्वाश नलिका को साफ़ कर देती है. यह एक एंटीसेप्टिक का भी काम कराती है। ज्यादा कफ होने की स्तिथि में एक कप खोलते पानी में एक या दो चाय के चमच भर अजवायन १० मिनट तक उबले और इस चाय को दिन में ३ से ४ बार पिए। 
अजवायन का एक गन यह भी है की यह सयनस की तकलीफ को भी दूर करने में सहायक होती है। अगर आपको सीन्स की समस्या है तो अजवायन जैसी गर्म और खुश्क वनस्पति की जरुरत है. अजवायन श्वसन तंत्र के इन्फेक्शन का पारम्परिक इलाज तो है बल्कि यह एक शक्ति शैली एंटीवायरल और एंटीबायोटिक भी है। अजवायन की एक दो चमच सुखी पत्तिया एक प गर्म पानी में १० मिनट तक भिगोये। इस प्रकार तैयार किया गया काढ़ा दीन तीन बार  पिए इससे आपको आराम मिलेगा। 

दोस्तों आपको हमारा ब्लॉग कैसा लगा हमें कमेंट में बताये।

Everyone experiences how much coughing due to sore throat and phlegm can make you nervous. If you want to get relief from cough soon then you should take the help of parsley. Parsley will not only cure cough, the mucus of your throat also comes out and clears your respiratory tract. It also serves as an antiseptic. In case of excess phlegm, one or two teaspoons of parsley boiled for 10 minutes in a cup of open water and drink this tea 3 to 4 times a day. A gun of parsley is also helpful in removing the pain of cyanus. If you have problem with senes, then you need a hot and dry vegetable like parsley. Parsley is a traditional treatment for respiratory tract infections, but is also a potency style antiviral and antibiotic. Soak one or two tablespoon of dried parsley in one hot water for 10 minutes. Drink this type of decoction cooked three times, it will give you comfort. Friends, how did you like our blog, tell us in the comments.

www.indianhistoryandtraveling.com

0 Comments