INDIAN HISTORY AND TRAVELING INFORMATION

Swami Narayan Akshardham Temple


Swami Narayan Akshardham Temple is a unique cultural shrine built in New Delhi. Which was built in the pious memory of Jyotirdhata Bhagwan Swaminarayan. The campus is spread over 100 acres of land. Being the largest Hindu temple complex in the world, on 24 December it went to the Guinness Book of World Records. The main attraction of Swami Narayan Akshardham Temple is Akshardham Temple. It is 311 feet high by 141 feet high and is 358 feet long. It is intricately decorated with flowers, animals, dancers, musicians and followers. It is designed according to Maharishi Vastu architecture.




 It is mainly built from the capital Pink Pathro and from the Italian Carrara Marble. It has been constructed according to Hindu craftsmanship and metal has also been made in it like other historical Hindu temples. Steel and concrete have also not been used when making. The temple has 236 decorated pillars, 6 gurudas and 20000 sadhus and followers, and the Acharyo ki Murtiya, the lower part of the temple also has Gajendra Peeth. And there is also a pillar paying tribute to Hathi and it has been given importance in Hindu literature and culture. In this, 14 huge stalwarts have been made, whose weight will be about 3000 tan.


The 11-foot-high statue of Swaminarayan Bhagwan at the bottom of the dome between the temples is the statue sitting in Abhaya Mudra. Swami Narayan Temple is surrounded by idols of the thoughts of caste gurus. Every idol made in the Swami Narayan temple is made of five metal as per the Hindu tradition. The temple also has idols of Sita Ram, Radha Krishna, Shiva Parvati and Lakshmi Narayan. That is why it is one of the tourist places of India.

स्वामी नारायण अक्षरधाम मंदिर


नई दिल्ली में बना स्वामी नारायण अक्षरधाम मंदिर एक अनोखा सांस्कृतिक तीर्थ है। जिसे ज्योतिर्धत्त भगवन स्वामीनारायण की पुण्य स्मृति में बनवाया गया था। यह परिसर १०० एकड़ भूमि में फैला हुआ है। दुनिया का सबसे विशाल हिन्दू मंदिर परिसर होने के नाते २६ दिसंबर  यह गिनीज बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में  गया। स्वामी नरायन अक्षरधाम मंदिर का मुख्या आकर्षण अक्षरधाम मंदिर है। यह १४१ फुट ऊँचा ३१६ फुट फैला और ३५६ फुट लम्बा है। यह जटिलतापूर्वक इसे फूलो ,पशु ,नर्तकियों,संगीतकारों और अनुयायियोंसे से सजाया गया है। 



महर्षि वास्तु आर्किटेक्चर के अनुसार ही इसे डिज़ाइन किया गया है। इसे मुख्या रूप से राजधानी गुलाबी पथरो से और इतालियन कर्रारा मार्बल से बनाया गया है। इसका निर्माण हिन्दू शिल्प शस्त्र के अनुसार ही किया गया है और साथ ही दूसरे ऐतिहासिक हिन्दू मंदिरो की तरह इसमें भी मेटल का  किया गया है।  बनाते समय स्टील और कंक्रीट का उपयोग भी नहीं किया गया है। इस मंदिर में २३४ आभूषित किये गए पिलर है ,९ गुम्मद और २०००० साधुओ  और अनुयायायियोंको  और आचार्यो की मुर्तिया है मंदिर के निचले भाग में गजेंद्र पीठ भी है। और हथी को श्रद्धांजलि देने वाला एक स्तम्भ भी है और हिन्दू साहित्य और संस्कृति में इसे महत्व दिया गया है। 

इसमें १४८ विशाल हठी बनाये गए है जिनका वजन तकरीबन ३००० तन होगा। मंदिर के बिच के गुंम्बद के निचे ११ फुट ऊँची  स्वामीनारायण भगवन की मूर्ति अभय मुद्रा में बैठी हुई मूर्ति है। स्वामी नारायण मंदिर जातिगत गुरुओ के विचारो की प्रतिमाओसे घिरा हुआ है। स्वामी नारायण मंदिर में बानी हुई हर एक मूर्ति हिन्दू परंपरा के अनुसार पंच धातु से बानी हुई है। इस मंदिर में सीता राम ,राधा कृष्ण ,शिव पार्वती और लक्ष्मी नारायण की मूर्ति भी है। इसीलिए यह एक भारत के पर्यटन स्थलों में से एक है। 


0 Comments